in

दुःखद: गया के वरीय अधिवक्ता कुणाल शरण का निधन, अधिवक्ताओं में शोक

वरीय संवाददाता देवब्रत मंडल

दिवंगत अधिवक्ता की फ़ाइल फोटो

गया के वरीय अधिवक्ता कुणाल शरण उर्फ आलोक बाबू का निधन रविवार की देर रात निधन हो गया। उन्होंने अंतिम सांस शहर के नादरागंज मोहल्ले में स्थित आवास पर ली। निधन की खबर सुनने के बाद गया बार एसोसिएशन के पूर्व सचिव राजन प्रसाद, पूर्व सचिव अनिल कुमार, अधिवक्ता मनोज कुमार, संजय सिन्हा, शशि शेखर, अजित कुमार, बबलू, संजय जैपुरियार आदि उनके आवास पर पहुंचे और शोकाकुल परिवार को इस दुःख की घड़ी में धैर्य बनाए रखने के लिए ढाढस बंधाया। मृतक अधिवक्ता के दो पुत्री और एक पुत्र हैं। बच्चे बेंगलुरु में रहते हैं, जिनके गया लौटने के बाद गया के विष्णुपद श्मशानघाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा। इनके निधन पर वरीय अधिवक्ता विकास रंजन दफ़्तुआर, गया बार एसोसिएशन के सचिव मुरारी कुमार हिमांशु, बगेश कुमार, सुनील कुमार, वरीय अधिवक्ता रबीन्द्र प्रसाद, राजेन्द्र प्रसाद, विजय कुमार, कैलाश राय आदि ने गहरा शोक व्यक्त किया है। बता दें कि दिवंगत अधिवक्ता आलोक बाबू के पिता स्व. त्रिपुरारी शरण उर्फ बिट्टू बाबू गया बार एसोसिएशन के अध्यक्ष थे। वहीं नगर विधायक डॉ. प्रेम कुमार के कभी इलेक्शन एजेंट रहे भाजपा नेता कुंदन शरण के छोटे भाई थे कुणाल शरण। कुणाल शरण दीवानी वाद के मामले के जानकार थे। वहीं क्रिमिनल केस के मामले के भी अच्छे जानकार थे। इनके निधन की खबर सुनने के बाद गया के अधिवक्ताओं में शोक की लहर दौड़ गई है।

दिवंगत अधिवक्ता की फ़ाइल चित्र

What do you think?

Written by Deobarat Mandal

Leave a Reply

GIPHY App Key not set. Please check settings

गया के फतेहपुर के गझंडा गांव निवासी डेढ़ वर्षीय आर्यन की अचानक हुई मौत, परिजनों में कोहराम

गुलनार समूह द्वारा आयोजित मेहंदी प्रतियोगिता के सफल प्रतिभागियों को किया गया पुरस्कृत