न्यूज शेयर करें

वरीय संवाददाता देवब्रत मंडल

पितृपक्ष मेला 2023 के आरंभ होने में समय काफी कम रह गए हैं। अगले सप्ताह 28 सितंबर से मेला विधिवत शुरू हो जाएगा। ऐसे में समय शेष रहते हुए डीएम उन हर व्यवस्थाओं पर बारीकी से नजर बनाए हुए हैं, जो सीधा तीर्थयात्रियों की सुविधाओं से जुड़ा है। निरंतर निरीक्षण, निर्देश और आदेश के साथ साथ स्थल पर एक प्रकार से समीक्षा कर रहे हैं, जहां कहीं भी कुछ कमियां या फिर त्रुटियों पर नजर पड़ रही है, वहीं पर संबंधित अधिकारियों को मेला शुरू होने से पहले दुरुस्त करने को कह रहे हैं। बुधवार को पितृपक्ष मेला 2023 के सफल आयोजन के अवसर पर जिला पदाधिकारी डॉ० त्यागराजन एसएम एवं प्रभारी एसएसपी नगर पुलिस अधीक्षक हिमांशु कुमार ने संयुक्त रूप से विष्णुपद मंदिर एवं देवघाट का निरीक्षण किया।

भीड़ में किसी को भी परेशानी व असुविधा नहीं होगी

निरीक्षण के क्रम में जिला पदाधिकारी ने निर्देश दिया कि विष्णुपद स्टेज के समीप यत्र तत्र ठेला को हटवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि इस वर्ष पितृपक्ष मेला अवधि में अत्यधिक भीड़ होने की पूरी संभावना है, इस दृष्टिकोण से यात्रियों को कतारबद्ध पंक्ति में रखने हेतु अच्छे तरीके से क्यु-सिस्टम का प्लान तैयार करें। जिससे यात्रियों को कोई भी असुविधा न हो और भीड़भाड़ की भी स्थिति ना बने। विष्णुपद मंदिर के सीढ़ी के माध्यम से उतर कर देवघाट जाने वाले रास्ते मे पड़ने वाले दुकानों के मालिकों के साथ बैठक कर उन्हें निर्देशित करे कि पब्लिक रास्ता को छोड़कर दुकान को और अपने अंदर में ही खोलें, रास्ते पर दुकान ना खुले एवं ग्राहक को भी रोड पर खड़ा होने ना दें। देवघाट जाने के रास्ते में कुछ निजी मकान मालिक ने रास्ते में ही सीढ़ी बनाकर रास्ता को अवरुद्ध कर रखा है। इस पर अनुमंडल पदाधिकारी को निर्देश दिया कि मकान मालिक से बात करके अवरुद्ध रास्ता को समतल करवाये। देवघाट द्वार पर ही खराब उबर खाबर सीढ़ी को समतल करवाने का निर्देश दिए।

दोपहर 12 बजे तक रुक्मिणी तालाब में करना होगा श्रीगणेश की प्रतिमा विसर्जित

निरीक्षण के दौरान जिला पदाधिकारी ने बताया कि 28 सितंबर को गणेश पूजा का प्रतिमा विसर्जन निर्धारित है तथा उसके दिन पितृपक्ष मेला का उद्घाटन तिथि निर्धारित है। उक्त परिपेक्ष को देखते हुए सभी गणेश पूजा समिति से आग्रह किया है कि 28 सितंबर को हर हाल में दोपहर 12:00 तक प्रतिमाओं का विसर्जन करवा लें। उन्होंने कहा कि गणेश प्रतिमा का विसर्जन हर हाल में रुकमणी तालाब के दक्षिणी ओर में जगह चिन्हित रखी गई है उसी में प्रतिमाओं का विसर्जन करें। इसके अलावा किसी अन्य तालाब में विसर्जन नहीं किया जाएगा। फल्गु नदी गयाजी डैम को स्वच्छ एवं निर्मल रखने में आप सभी प्रशासन का सहयोग करें।

गयाजी डैम से गदाधर घाट तक टेंट की छांव में तर्पण करने की रहेगी व्यवस्था

पितृपक्ष मेला के अवसर पर तीर्थ यात्रियों को तर्पण हेतु गयाजी डैम बिंदु से लेकर के गजाधर घाट तक टेंट पंडाल का निर्माण किया जा रहा है। इस पर जिला पदाधिकारी ने टेंट पंडाल के संवेदक को निर्देश दिया कि हर हाल में 24 सितंबर तक टेंट पंडाल निर्माण का कार्य पूर्ण कर लें। साथ ही पंडाल की चौड़ाई को प्रॉपर तरीके से रखें ताकि अधिक से अधिक यात्रियों को छांव में तर्पण कराया जा सके। गयाजी डैम से लेकर शमशान घाट तक कुल 13 सेक्टर में बांटा गया है ताकि घाट पर यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए प्रॉपर व्यवस्थाओं की निगरानी रखी जा सके। इसके अलावा 12 वाच टावर भी बनाया जा रहा है।

गयाजी डैम के सीढ़ी के पास मुंडन की व्यवस्था, एसडीएम करेंगे नाई समाज के लोगों के साथ बैठक

गया जी डैम के सीढ़ी के समीप खाली पड़े कच्चा रास्ता में यात्रियों का मुंडन हेतु मुंडन घाट नाम से फ्लेक्स के माध्यम से प्रदर्शित करवाया जा रहा है ताकि विभिन्न तीर्थ यात्रियों जिन्हें मुंडन करवाना रहेगा वह यहीं पर आकर के मुंडन कार्य करवाएंगे। उन्होंने अनुमंडल पदाधिकारी सदर को निर्देश दिया है कि सभी नाई समाज के लोगों से बैठक कर उन्हें अवगत करवाये की डैम के पास मुंडन हेतु जगह सुरक्षित रखी गई है। उन्होंने नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि बड़े आकार का अतिरिक्त डस्टबिन मुंडन घाट के समीप लगवाएं ताकि विभिन्न मुंडन कर कर रहे नाई प्रॉपर तरीके से डस्टबिन में यत्र तत्र सामग्री को डालें, नदी में बिल्कुल भी प्रवाहित न करे। घाट पर यत्र तत्र कई सारे गुमटी देखी गई, इस पर अनुमंडल पदाधिकारी को निर्देश दिया कि सभी गुमटी को अविलंब हटवाना सुनिश्चित करवाये।

नाली का ढक्कन सतह से नीचे दिखा, नगर आयुक्त को ठीक करवाने का निर्देश

निरीक्षण के दौरान कुछ स्थानों पर नाली का ढक्कन सतह से नीचे देखा गया, जिस पर यात्रियों की सुविधा हेतु नाली का ढक्कन प्रॉपर करवाने का निर्देश दिए। निरीक्षण के क्रम में श्मशान घाट के समीप विभिन्न लकड़ी के दुकान रास्ते में रहने पर नगर आयुक्त एवं अनुमंडल पदाधिकारी को निर्देश दिए की पूर्व में बने पक्के स्ट्रक्चर के दुकान में इन सभी दुकानों को शिफ्ट करवाये ताकि पितृपक्ष मेला के दौरान काफी भीड़ रहती है, यात्रियों को आवागमन में कोई असुविधा न हो सके। सूर्यकुंड के आसपास के गलियों में नाली का चैंबर एवं नाली का ढक्कन टूटे हुए हैं। इसे नगर आयुक्त को अविलंब ठीक करवाने को कहा गया। इसके उपरांत उन्होंने निर्देश दिया कि शमशान घाट के समीप लखनपुर गली को समतल करवाये।
निरीक्षण में नगर आयुक्त नगर निगम गया, उप विकास आयुक्त, नगर पुलिस अधीक्षक, वरीय उप समाहर्ता गण, डीसीएलआर सदर, ज़िला पंचायत राज पदाधिकारी, ज़िला आपूर्ति पदाधिकारी सहित नगर निगम के तमाम अभियंता उपस्थित थे।

Categorized in:

Bihar, Gaya, MAGADH LIVE NEWS,

Last Update: September 21, 2023