Join NowTelegram & WhatsApp Group

छात्र नागसेन अमन के पार्थिव देह स्वदेश मंगाने के लिए बौद्ध भिक्षुओं ने बोधगया में निकाला कैंडल मार्च

वरीय संवाददाता देवब्रत मंडल

मूल रूप से छपरा के निवासी छात्र नागसेन अमन के पार्थिव शरीर स्वदेश मंगवाने को लेकर बोधगया में बौद्ध भिक्षुओं ने सोमवार को कैंडल मार्च निकाला। गया शहर के रामपुर थाना क्षेत्र में रह रहे नागसेन अमन के परिवार वाले भारत सरकार से यह आस लगाए हुए हैं कि सरकार उसके पार्थिव शरीर को स्वदेश लाएगी। छात्र अमन की चीन में संदेहास्पद मौत की सूचना आने के बाद से उसका शव स्वदेश नहीं लाया जा सका है। सोमवार को बोधगया के बौद्ध भिक्षुओं व नगरवासियों ने कैंडल मार्च निकाला। महाबोधि मंदिर के पास से निकला कैंडल मार्च बीटीएमसी गोलंबर से होकर विभिन्न जगहों का भ्रमण कर वापस महाबोधि मंदिर के पास पहुंचा। मार्च में शामिल लोग हाथ में कैंडिल और बैनर तले नागशेन अमन का शव गया वापस लाने और इंसाफ की मांग कर रहे थे। महाबोधि महाविहार के पूर्व पुजारी भदंत सत्यानंद ने बताया कि अमन चीन के तियान जीन फाॅरन यूनिवर्सिटी आफ टेक्नोलाॅजी में इंटरनेशनल बिजनेस की पढ़ाई कर रहा था। अमन के परिजनों को पता नहीं की उसकी मौत कैसी हुई। पार्थिव देह लाने की जिम्मेदारी भारत सरकार की होती है। बौद्ध भिक्षुओं ने भी सरकार से मांग किया है कि नागसेन अमन का शव जल्द स्वदेश वापस लाया जाए।