न्यूज शेयर करें

देवब्रत मंडल

गया से इस वक्त की सबसे बड़ी खबर आई है कि एक रेलकर्मी की नृशंस हत्या कर दी गई। हत्या के बाद साक्ष्य को छिपाने के लिए लाश को उसके सरकारी आवास के पानी वाले हौज में डालकर उस पर नमक छिड़क दिया गया। घटना की जानकारी मिलने के बाद सिविल लाइंस थाना, रेल थाना और आरपीएफ़ की टीम मौके पर पहुंच गई। मामले की जांच में पुलिस जुट गई है।

इंस्पेक्टर कॉलोनी की घटना

मामला गया के इंस्पेक्टर रेलवे कॉलोनी के कर्मचारी आवास संख्या 416 की बताई जा रही है। जिसमें अभियांत्रण विभाग के एक रेल रेलकर्मी संजय कुमार सिन्हा रहते थे। जिनकी नृशंस हत्या कर दी गई है। संजय कुमार सिन्हा ट्रैकमैन पद पर कार्यरत थे, जो अपनी टीम के मेट भी थे। जिनकी लाश रेल कर्मचारी आवास के हौज से ढके हुए अवस्था में पुलिस ने बरामद कर लिया है।

25 अप्रैल तक ड्यूटी की और बाद में छुट्टी पर चले गए थे

रेलवे सूत्रों की माने तो मृत रेलकर्मी ने 25 अप्रैल को ड्यूटी करने के बाद छुट्टी लेकर पटना चले गए थे। बताया गया कि पटना से लौटने के बाद उनकी हत्या सरकारी आवास में कर दी गई और लाश को आवास के ही पानी वाले हौज में बोरे में रखकर उस पर नमक छिड़क दिया गया। हत्या किस कारण से हुई और हत्या के पीछे किसका हाथ हो सकता है। इसका पता पुलिस लगा रही है।

खून के धब्बे से शक की गुंजाइश बन गई

बताया जा रहा है कि संजय कुमार सिन्हा जब दो दिन से अपने काम पर नहीं जा रहे थे तो इस बात का पता लगाने की कोशिश में सरकारी आवास पर कोई गया। जब आवास में खून के धब्बे और कुछ दुर्गंध लगी तो शक हुआ और इसके बाद बात फैल गई। इसके बाद पुलिस अपनी कार्रवाई शुरू कर दी

दो शादियों की भी हो रही चर्चा

मृत रेलकर्मी संजय कुमार सिन्हा के बारे में लोगों ने बताया कि वे दो शादी कर रखे हैं। दोनों पत्नी से संतान भी हैं। संजय के बारे में लोगों का कहना था कि दोनों पत्नियों और उनके बच्चों की देखभाल किया करता था।

निगरानी टीम में भी काम कर चुका है संजय

रेलवे सूत्रों ने बताया कि मृत रेलकर्मी संजय कुमार सिन्हा पूर्व मध्य रेल के अभियांत्रण विभाग की निगरानी टीम के साथ भी कुछ समय के लिए कार्य कर चुका है। एक चर्चा यह भी है संजय अन्य रेलकर्मियों(अपने सहयोगियों) के साथ होने वाली विभागीय परेशानी में उनका बढ़ चढ़कर साथ भी देता था और उनकी परेशानी को दूर किया करता था।

शराब का भी शौकीन था मृत रेलकर्मी

स्थानीय लोगों के अलावा उनके साथ काम करने वाले कर्मचारियों की मानें तो संजय कुमार सिन्हा शराब के काफी शौकीन थे। एक बार शराब सेवन करने के मामले में हिरासत में जा चुके थे।