Join NowTelegram & WhatsApp Group

भारत बंद का गया में लोगों का मिला जनसमर्थन, बंद पूरी तरह सफल: माले

कोरोना महामारी और लॉकडाउन के बीच जल्दबाजी और अलोकतांत्रिक तरीके से लागू किया गया तीनों नया कृषि कानून घोर खेत-खेती और किसान विरोधी है। इसलिए इसके खिलाफ किसान आंदोलनरत हैं। नया कृषि कानून किसानों बंधक बनाने वाली गुलामी का दस्तावेज है।
उक्त बातें किसान संगठनों के आह्वान पर मंगलवार को भारत बंद के दौरान समापन भाषण में महागठबंधन के नेताओं ने कही। सुबह से ही महागठबंधन से जुड़े दलों भाकपा-माले, भाकपा, माकपा,राजद, कांग्रेस के भारी संख्या में गया बंद कराने सड़क पर उतरे। अलग-अलग जत्थों में बंद समर्थकों ने जुलूस निकाला और गया टावर चौक पहुंचकर धन्यवाद सभा किया। बंद का नेतृत्व भाकपा-माले जिला सचिव निरंजन कुमार,ऐपवा सह माले नेत्री रीता बरनवाल, सुदामा राम, रामचंद्र प्रसाद,शंभु राम,नवल किशोर यादव, अर्जुन सिंह, अशोक कुमार, भाकपा जिला मंत्री सीताराम शर्मा, मो•याहिया,अमृत प्रसाद, माकपा के पीएन सिंह, कपिल प्रसाद, जिलामंत्री रामखेलावन दास राजद राजद विधायक सह राज्य नेता सुरेन्द्र प्रसाद,गुरुआ विधायक विनय कुमार यादव, बोधगया विधायक कुमार सर्वजीत समेत यादव,जिलाध्यक्ष मो•नेजाम, महानगर अध्यक्ष जितेंद्र कुमार यादव, प्र्रदेश महामंत्री चांद अंसारी,मो•जुबैर, जुगनू यादव, कांग्रेस जिलाध्यक्ष चंद्रिका प्रसाद यादव, विजय कुमार मिठू, कांग्रेस नेता सह गया नगर निगम का डिप्टी मेयर मोहन श्रीवास्तव समेत महागठबंधन के सैकड़ों कार्यकर्ता बंद कराने सड़क पर उतरे। महागठबंधन ने भारत बंद को पुरी सफल बताया और इसके लिए जनता को आभार जताते हुए धन्यवाद दिया।

रिपोर्ट- वरीय संवाददाता देवब्रत मंडल